HINDI

Lipi kise kahate hain || लिपि किसे कहते है जानिए आसान शब्दो मे

Lipi kise kahate hain

Lipi kise kahate hain – दोस्तो आज हम आप को लिपि के बारे मे बताएँगे की लिपि की परिभाषा क्या होती हैं ओर ये कितने प्रकार की होती हैं

आज के इस पोस्ट से लिपि से जुड़े सभी प्रकार के doubt हैं,  वो इस पोस्ट को पढ़ने के बाद clear हो जाएगा

जैसा ही हमने इस पोस्ट से पहेले आप सभी को बता चुके हैं की बोली किसे कहते हैं ओर भाषा किसे कहते हैं

आप सभी को बोली ओर भाषा मे क्या अंतर होता हैं ये दोनों टॉपिक समझ गए होंगे

तो आइए आज समझते हैं की लिपि किसे कहते है वो भी आसान शब्दो मे।

 

Lipi kise kahate hain || लिपि किसे कहते है

दोस्तो ध्यान से पढ़िये की लिपि किसे बोलते हैं “किसी भाषा को लिखने के लिए जिन प्रतीकों/चिह्नों प्रयोग किया जाता है। वही उस भाषा की लिपि कहलाती है।

जैसे- क, ख, ग, घ  

देखा दोस्तो कितना कितना आसान हैं लिपि की परिभाषा, इसको पढ़ने के बाद आप को हमेशा याद करेगी लिपि की परिभाषा ।

अगर फिर भी आप से कोई पूछता हैं की Lipi kise kahate hain तो आप उन्हें बता सकते हैं कि “जो हम बोलते हैं उसे अगर लिखना हो तो हम उसे कैसे लिखेंगे ताकी उसे बाद में पढ़ा जा सके” इसके लिए हम लिपि का सहारा लेते हैं। लिपि एक विशेष प्रकार के चिह्न होते हैं।

 

लिपि परिवार के 3 मुख्य लिपिया

दोस्तो दुनिया भर में बोली जा रही हजारो भाषाओँ को लिखने के लिए लगभग दर्जनों लिपिया है, लेकिन ये दर्जनों लिपियाँ निम्नलिखित 3 मुख्य लिपिया आती हैं

  1. चित्रलिपि
  2. ब्राह्मी लिपि
  3. फोनेशीयन
  • चित्रलिपि – ये लिपि कुछ इस प्रकार हैं जिसमे लिखने के लिए भावचित्रों का प्रयोग किया जाता है, उसे चित्रलिपि कहते हैं। जैसे – चीन, जापान एवं कोरिया में इन लिपियाँ का प्रयोग किया जाता है।
  • ब्राह्मी लिपि – यह भारत की सबसे प्राचीनतम (पुरानी) लिपि है। मौर्य काल में अशोक ने जो स्तम्भ और शिलालेख लिखवाए थे वह अधिकतर इसी लिपि में होते थे। यह बाएँ से दाहिने की तरफ़ लिखी जाती है। इसमें देवनागरी तथा दक्षिण एशिया एवं दक्षिण-पूर्व एशिया में प्रयुक्त लिपियाँ आती हैं।
  • फोनेशीयन – यह भूमध्य सागर पर स्थित एक प्राचीन सभ्यता थी, फ़ोनीशियाई वर्णमाला के अंतर्गत सम्प्रति यूरोप, मध्य एशिया एवं उत्तरी अफ्रीका में प्रयुक्त लिपियाँ थी।

 

Noteदोस्तो भारत की सभी भाषाएँ ब्राह्मी लिपि से निकली हैं, हमारी राष्ट्र भाषा हिन्दी को देवनागरी लिपि में लिखा जाता है, देवनागरी लिपि ब्राह्मी लिपि से निकला है। इसे ‘लोक नगरी’ एवं ‘हिन्दी लिपि’ भी कहते हैं, यह बायीं और से दायीं और लिखी जाती है।

 

लिपि के प्रकार

इस दुनिया मे अनेक भाषाएं हैं और उन भाषाओं के उनके अलग-अलग लीपिया है। लेकिन एक अध्ययन से यह पता चला है कि इस दुनिया मे मूल तीन प्रकार की लिपियाँ है, जो इस प्रकार है,

  1. चित्र लिपि
  2. अल्फाबेटिक लिपि
  3. अल्फासिलैबिक लिपि

चित्र लिपि– चित्र लिपि एक ऐसी लिपि है, जिसमें पुराने जमाने के लोग शब्द और अक्षरों के बदले वस्तुओं और क्रियाओ के चित्र के जरिए संदेश प्रकट करते थे। चित्र लिपि की मदद से लोग आसानी से किसी भी विचार एवं अवधारणा को व्यक्त कर सकते है, जैसे कि अगर ईश्वर या धर्म की अवधारणा व्यक्त करना है, तो वे ॐ का चिन्ह वहा बनाया जाता है।

प्राचीन मिस्र लिपि – प्राचीन मिस्त्री
कांजी लिपि – जापानी
चीनी लिपि – चीनी

अल्फाबेटिक लिपि– अल्फाबेटिक लिपि एक ऐसी लिपि है, जिसमें व्यंजन की बाद स्वर अपने पूरे अक्षर का रूप लिए आते हैं।

सिरिलिक लिपि – रूसी, सवीयत संघ की बहुत सारे भाषाएँ
लैटिन लिपि – अंग्रेजी, जर्मन, फांसीसी, कंप्यूटर प्रोग्रामिंग, पश्चिमी और मध्य यूरोप की सारी भाषाएँ
अरबी लिपि – आरबी, कश्मीरी, फ़ारसी, उर्दू
इब्रानी लिपि – इब्रानी
यूनानी लिपि – यूनानी और थोड़े गणित के चिन्ह

अल्फासिलैबिक लिपि– अल्फासिलैबिक लिपि एक ऐसी लिपि है, जिसमें अगर किसी भी इकाई में व्यंजन नहीं होता तो स्वर का पूरा चिन्ह लिखा जाता है। लेकिन इस लिपि की हर एक इकाई में अगर एक या अधिक व्यंजन होता है, तो उस पर स्वर की मात्रा का चिन्ह लगाया जाता है।

देवनागरी लिपि – हिंदी, संस्कृत, मराठी, कोंकणी, नेपाली
गुरमुखी लिपि – पंजाबी
तमिल लिपि – तमिल
गुजराती लिपि – गुजराती
बंगाली लिपि – बांग्ला
ब्राझि लिपि – कन्नड़, प्राचीन काल में संस्कृत और पाली
कानो लिपि – जापानी
भारत की अन्य लिपियाँ

निष्कर्ष – उम्मीद हैं की दोस्तो आज के इस पोस्ट मे, लिपि से जुड़े सभी प्रकार के doubt, clear हो गए होंगे अगर फिर भी किसी भी प्रकार की समस्या हो या इससे related pdf चाहिए हो तो आप कमेंट करे

Latest update पाने के लिए हमारे  Telegram Group को like करे. अगर आपको Lipi kise kahate hain || लिपि किसे कहते है जानिए आसान शब्दो मे, पसंद आये तो इसे अपनी प्रियजनों को शेयर करे. और हमें comment box में comment करे

1 Comment

Leave a Comment