HINDI

Essay on Diwali in Hindi | दिवाली निबंध

Essay on Diwali in Hindi

Essay on Diwali in Hindi – रोशनी का त्योहार ‘दीपावली’ हिंदुओं के सबसे व्यापक रूप से मनाए जाने वाले त्योहारों में से एक है। यह पूरे भारत में और दुनिया के कुछ अन्य हिस्सों में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। इस त्योहार के साथ कई कहानिया जुड़ी हुई हैं। यह रावण पर भगवान राम की जीत और 14 साल के वनवास के बाद भगवान राम की घर वापसी का प्रतीक है। वस्तुत: यह पर्व सदाचार की शक्तियों की बुराई पर विजय का प्रतीक है।

इस दिन के अवसर पर भगवान राम की स्मृति बिलकुल ताजा हो जाती है। इस दिन समुद्र मंथन के समय लक्ष्मी जी का जन्म हुआ था इसी वजह से दीपावली पर लक्ष्मीजी की पूजा की जाती है और घर में धन-धान और एश्वर्य की कामना की जाती है। इसी दिन भगवान श्रीकृष्ण ने नरकासुर नामक राक्षस का वध भी किया था।

Essay on Diwali in Hindi

दीपावली का अर्थ

दीपावली शब्द संस्कृत से लिया गया है। दीपावली दो शब्दों से मिलकर बना होता है दीप और आवली जिसका अर्थ होता है दीपों से सजा। दीपावली को रोशनी का त्यौहार और दीपोत्सव भी कहा जाता है क्योंकि इस दिन चारों और दीपों की रोशनी होती है। इस दिन हम सभी दीपों की पंक्ति बनाकर अंधकार को मिटाने में जुट जाते हैं और अमावस्या की अँधेरी रात जगमग असंख्य दीपों से जगमगाने लगती है।

दीपावली का यह पावन पर्व कार्तिक मांस की अमावस्या के दिन मनाया जाता है। गर्मी और वर्षा ऋतू को विदा कर शीत ऋतू के स्वागत में यह पर्व मनाया जाता है। उसके बाद शीत के चन्द्र की कमनीय कलाएं सबके चित्त-चकोर को हर्ष विभोर कर देती है। शरद पूर्णिमा को ही भगवान कृष्ण ने महारास लीला का आयोजन किया था। इसे बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक माना जाता है।

 

दिवाली निबंध समारोह के बारे में

दीपावली का उत्सव निबंध –  दीवाली के दिन, पूरे देश में व्यस्त गतिविधियाँ होती हैं। लोग अपने प्रियजनों को आमंत्रित करते हैं। इस दिन मिठाइयां बनाकर दोस्तों और रिश्तेदारों में बांटी जाती हैं। दिवाली के दिन लोग जमकर मस्ती करते हैं 

नए कपड़े तो सभी पहनते हैं। बच्चे और किशोर अपने सबसे चमकीले और चकाचौंध वाले कपड़े पहनते हैं। रात में आतिशबाजी और पटाखे भी छोड़े जाते हैं। पटाखों की तेज लपटें अंधेरी रात में एक मनोरम दृश्य प्रस्तुत करती हैं।

त्योहार एक सुंदर रूप धारण करता है। हर कोई अच्छी तरह से तैयार, समलैंगिक और खुशमिजाज है। कुछ लोग इस दिन को सबसे उत्साहपूर्ण तरीके से मनाते हैं। रात में, लोग अपने घरों को रोशनी, दीयों, मोमबत्तियों और ट्यूबलाइट से सजाते हैं। वे शाम को पटाखों फोटने के साथ, खाते पीते और आनंद लेते हैं। आतिशबाजी की रोशनी और आवाज में शहर और कस्बे डूब जाते हैं। घरों के अलावा, सार्वजनिक भवनों और सरकारी कार्यालयों मे भी दीये जलाया जाता है। यह देखने लायक मनमोहक नजारा होता है।

दिवाली का महत्व

हिंदू इस दिन धन की देवी लक्ष्मी की पूजा करते हैं। वे प्रार्थना करते हैं ताकि देवी लक्ष्मी उनके घरों में आ सकें और समृद्धि प्रदान कर सकें।

दीपावली पूरे देश का त्योहार है। यह देश के कोने-कोने में मनाया जाता है। इसलिए यह पर्व लोगों में एकता की भावना भी पैदा करता है। यह एकता का प्रतीक बन जाता है। भारत इस त्योहार को हजारों सालों से मना रहा है और आज भी इसे मना रहा है। सभी भारतीय इस त्योहार को पसंद करते हैं।

पटाखों के बिना परिवार के साथ दिवाली मनाएं

दिवाली साल का मेरा पसंदीदा त्योहार है और मैं इसे अपने परिवार के सदस्यों और दोस्तों के साथ बहुत उत्साह के साथ मनाता हूं। दिवाली को रोशनी का त्योहार कहा जाता है क्योंकि हम इसे बहुत सारे दीये और मोमबत्तियां जलाकर मनाते हैं। यह पूरे भारत और विदेशों में प्रत्येक हिंदू व्यक्ति द्वारा मनाया जाने वाला एक पारंपरिक और सांस्कृतिक त्योहार है। लोग अपने घरों को बहुत सारी मोमबत्तियों और छोटे मिट्टी के तेल के दीपकों से सजाते हैं जो बुराई पर अच्छाई की जीत का संकेत देते हैं।

परिवार के सदस्य दिन का अधिकांश समय एक भव्य शाम की पार्टी के साथ उत्सव का स्वागत करने के लिए घर की तैयारी (सफाई, सजावट, आदि) में बिताते हैं। शाम की पार्टी में पड़ोसी, परिवार के सदस्य और दोस्त इकट्ठा होते हैं और रात भर बहुत सारे स्वादिष्ट भारतीय व्यंजन, नृत्य, संगीत आदि के साथ पार्टी का आनंद लेते हैं। सफेदी, मोमबत्ती की रोशनी और रंगोली में घर बहुत आकर्षक लगते हैं। उच्च स्वर संगीत और आतिशबाजी उत्सव को और अधिक रोचक बनाते हैं।

लोग अपनी नौकरी, दफ्तरों और अन्य कामों से छुट्टी लेकर अपने घर जाते हैं, दिवाली के त्योहार पर आसानी से अपने घर जाने के लिए छात्र भी लगभग तीन महीने पहले अपनी ट्रेन बुक कर लेते हैं क्योंकि हर कोई इस त्योहार को अपने परिवार के सदस्यों के साथ गृहनगर में मनाना चाहता है। लोग आम तौर पर दावत, पटाखे फोड़कर और परिवार और दोस्तों के साथ नृत्य का आनंद लेकर त्योहार का आनंद लेते हैं।

हालांकि, डॉक्टरों द्वारा विशेष रूप से फेफड़ों या हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, मधुमेह आदि से पीड़ित लोगों के लिए बाहर निकलने और पटाखों का आनंद लेने के लिए निषिद्ध है। ऐसे लोगों को अत्यधिक संतृप्त भोजन और मिठाई अधिक मात्रा में लेने के कारण डॉक्टर के दरवाजे पर दस्तक देना पड़ता है। और इन दिनों पटाखों से होने वाले व्यायाम और प्रदूषण की कमी।

उपसंहार

दीपावली हमारा धार्मिक त्यौहार है। दीपावली का पर्व सभी पर्वों में एक विशिष्ट स्थान रखता है। हमें अपने पर्वों की परम्पराओं को हर स्थिति में सुरक्षित रखना चाहिए। परम्पराओं से हमें उसके आरम्भ और उसके उद्देश्य को याद करने में आसानी होती है।

परम्पराएँ हमें उस पर्व के आदिकाल में पहुंचा देती हैं जहाँ पर हमें अपनी आदिकालीन संस्कृति का ज्ञान होता है। आज हम अपने त्यौहारों को भी आधुनिक सभ्यता का रंग देकर मनाते हैं लेकिन हमें उसके आदि स्वरूप को बिगाड़ना नहीं चाहिए। इसे हमेशा यथोचित रीति से मनाना चाहिए।

जुआ और शराब का सेवन बहुत ही बुरा होता है हमें सदैव इससे बचना चाहिए। आतिशबाजी पर अधिक व्यय नहीं करना चाहिए। हम सभी का कर्तव्य होता है कि हम अपने पर्वों की पवित्रता को बनाये रखें। इस दिन लोग व्याख्यान देकर जन साधारण को शुभ मार्ग पर चला सकते हैं।

यह त्यौहार नया जीवन जीने का उत्साह प्रदान करता है। हमें  इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि हमारे किसी भी काम और व्यवहार से किसी को भी दुःख न पहुंचे तभी दीपावली का त्यौहार मनाना सार्थक होगा।

Essay on Diwali in Hindi 10 Line

1) दीपावली को दीपों का त्योहार कहा जाता है।

2) दिवाली भारत का सबसे लोकप्रिय और सबसे बड़ा त्यौहार है।

3) यह त्यौहार भगवान राम की याद में मनाया जाता है जो चौदह वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या लौटे थे।

4) इस अवसर पर हिंदू मिट्टी के दीपक जलाते हैं और अपने घरों को रंगोली से सजाते हैं।

5) बच्चे इस त्योहार पर पटाखे जलाकर बहुत खुश होते हैं।

6) हिंदुओं में इस अवसर पर धार्मिक अनुष्ठान किए जाते हैं।

7) युवा, वयस्क और बूढ़े सभी देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा करते हैं।

8) हिंदू अपने दोस्तों और पड़ोसियों के साथ मिठाई और उपहार बांटते हैं।

9) भारत में सार्वजनिक अवकाश मनाया जाता है और लोग इस त्योहार का बड़े उत्साह के साथ आनंद लेते हैं।

10) यह हिंदुओं के सबसे प्रिय और आनंददायक त्योहारों में से एक है।

 

Latest update पाने के लिए हमारे  Telegram Group को like करे. अगर आपको Essay on Diwali || Essay on Diwali in hindi पसंद आये तो इसे अपनी प्रियजनों को शेयर करे. और हमें comment box में comment करे

Leave a Comment