Environment Essay | Environment Essay For Students - Students PDF
Environment

Environment Essay | Environment Essay For Students

Environment Essay
Written by Student PDF

Environment Essay | Environment Essay For Students – पर्यावरण वास्तविक दुनिया है जिसमें पृथ्वी पर रहने वाले और साथ ही गैर-जीवित प्रकार के परिवेश हैं। यह एक विशेष भौगोलिक क्षेत्र को भी संदर्भित करता है। पौधे, हवा, पानी, जानवर, इंसान और अन्य जीवित चीजें पर्यावरण में मौजूद हैं। वायुमंडलीय प्रक्रिया, भू-आकृति प्रक्रिया, जल विज्ञान प्रक्रिया पर्यावरण को प्रभावित करने वाले कारक हैं। बायोटिक प्रक्रिया में जीवित जीव शामिल हैं। जीवित जीव पर्यावरण के साथ दृढ़ता से जुड़े हुए हैं जिसे पारिस्थितिकी के रूप में जाना जाता है।

एक पर्यावरण एक प्रकृति है जो पृथ्वी पर हमारे जीवन का पोषण करती है। हमारे जीवन में जो कुछ भी हम महसूस करते हैं, सांस लेते हैं और खाते हैं वह पर्यावरण से आता है। जैसे जमीन, पौधे, पानी, हवा, धूप, जंगल, भोजन, नदियाँ, और अन्य प्राकृतिक चीजें पर्यावरण के भीतर आती हैं।

पृथ्वी पर उचित संतुलन बनाए रखने के लिए पर्यावरण का एक पूरा चक्र है। एक स्वस्थ वातावरण पृथ्वी पर जीवित और गैर-जीवित चीजों के विकास और पोषण का समर्थन करता है। हमारे स्वस्थ जीवन का अस्तित्व पर्यावरण पर निर्भर करता है जो प्रकृति के संतुलन को बनाए रखता है। इसलिए, स्वस्थ और शांतिपूर्ण जीवन जीने के लिए हमारे पर्यावरण को स्वच्छ रखना बहुत आवश्यक है। हमारे पर्यावरण को बचाना और जीवन के अस्तित्व के लिए प्रकृति के संतुलन को बनाए रखना महत्वपूर्ण है।

 

Impact on the Environment on the earth

चूंकि मानवीय गतिविधियां पर्यावरण पर कई प्रभाव डालती हैं। इसलिए, एक पर्यावरण सुरक्षित और स्वच्छ होना चाहिए, इसके बिना हम भविष्य में अपने जीवन के अस्तित्व की कल्पना नहीं कर सकते। अपरिष्कृत उद्योग अपशिष्ट और अन्य असुरक्षित तत्वों को पानी में छोड़ने के कारण जल प्रदूषण होता है।

वाहनों और उद्योगों से हानिकारक धुएं के अनियंत्रित निर्वहन के कारण वायु प्रदूषित है। मिट्टी और ध्वनि प्रदूषण हमारे पर्यावरण को भी प्रभावित करता है। ग्रीनहाउस गैसों के चरम स्राव ने पृथ्वी की सतह का तापमान बढ़ा दिया। ग्लोबल वार्मिंग के पीछे यही कारण है। हमारे जीवन का अस्तित्व भविष्य में पृथ्वी पर खतरनाक हो जाएगा।

आजकल, हम अपने शरीर को जो भोजन दे रहे हैं वह स्वस्थ नहीं है क्योंकि यह कृत्रिम उर्वरकों के बुरे प्रभावों से प्रभावित है। ये उर्वरक सूक्ष्मजीवों के कारण होने वाली बीमारियों से लड़ने के लिए हमारे शरीर की प्रतिरोधक शक्ति को कम कर देते हैं।

इसलिए हम किसी भी समय बीमार पड़ सकते हैं, भले ही हम एक स्वस्थ जीवनशैली बना रहे हों। जल और वायु प्रदूषण के कारण कई स्वास्थ्य रोग और विकार बढ़ रहे हैं।

पर्यावरण प्रदूषण हमारे दैनिक जीवन के कई कारकों पर नकारात्मक प्रभाव डाल रहा है। ये सामाजिक, आर्थिक और शारीरिक रूप से प्रभावित कारक हैं।

Human Responsibility in Environment

उन्नत प्रौद्योगिकियां पर्यावरण को नष्ट करती हैं जिसके परिणामस्वरूप प्रकृति का असंतुलन होता है। प्रतिदिन औद्योगिक कंपनियों से निकलने वाला हानिकारक धुआँ प्राकृतिक वायु को प्रदूषित कर रहा है। यह हवा इंसानों, जानवरों और अन्य जीवित चीजों के स्वास्थ्य को प्रभावित करती है क्योंकि वे इसे रोजाना खाते हैं।

अपनी व्यस्त और उन्नत जीवन शैली में, हमें इस प्रकार की छोटी-छोटी बुरी आदतों का प्रतिदिन ध्यान रखना चाहिए। यह महत्वपूर्ण है कि पर्यावरण के विनाश में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए सभी को थोड़ा प्रयास करना चाहिए। हमें अपने पर्यावरण को सुरक्षित और प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए पहल करनी चाहिए।

हमें अपने पर्यावरण को स्वच्छ और सुरक्षित बनाने के लिए कुछ नियमों का पालन करना चाहिए। हम अपने जीवन में एक स्वस्थ वातावरण से शांति, हरियाली और शांति के साथ शुद्ध हवा और पानी प्राप्त कर सकते हैं।

एक अच्छा वातावरण हमारे बच्चों के जीवन में खुशियाँ लाता है। समाज या व्यक्ति के विकास में एक पर्यावरण महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

ध्वनि प्रदूषण के खिलाफ कानून बनाने से पर्यावरण की गुणवत्ता बढ़ रही है। साथ ही, सार्वजनिक परिवहन के उपयोग को प्रेरित करता है। हमें पॉली बैग का उपयोग करना बंद कर देना चाहिए, सड़क या सार्वजनिक क्षेत्रों पर कचरे को फेंकना चाहिए। हम पुरानी चीजों के पुनर्चक्रण को अपना सकते हैं, टूटी-फूटी चीजों की मरम्मत और उपयोग कर सकते हैं।

हम रिचार्जेबल बैटरी या क्षारीय बैटरी, और फ्लोरोसेंट रोशनी का उपयोग कर सकते हैं। हम वर्षा जल संरक्षण को भी अपना सकते हैं, पानी की बर्बादी को कम कर सकते हैं, ऊर्जा संरक्षण, बिजली की कम खपत, और इसके बाद।

लोगों को स्वस्थ वातावरण बनाने के लिए वृक्षारोपण में भाग लेना चाहिए। हम तेज संगीत सुनकर ध्वनि प्रदूषण कर रहे हैं जो पर्यावरण को प्रभावित करता है। पर्यावरण को बचाने के लिए जागरूकता और प्रेरणादायक भाषण देना पर्याप्त नहीं है।

पर्यावरण की रक्षा के लिए हमें एक मजबूत पहल करनी चाहिए।

 

Problems in Environment

जीवनशैली और उन्नत तकनीक में बदलाव के कारण पर्यावरण में निम्नलिखित समस्याएं हैं।

  • प्रदूषण वायु, जल और जमीन में हानिकारक पदार्थों के निर्माण के कारण होने वाली प्रमुख समस्याओं में से एक है।
  • मरुस्थलीकरण के कारण मरुस्थली क्षेत्रों में भूमि के सूखने और गलने के कारण मरुस्थलीकरण भी समस्या उत्पन्न करता है।
  • जानवरों का विलुप्त होना समस्या का कारण है जो अत्यधिक आग, शिकार, विकास और अन्य कार्यों के कारण होता है।
  • आवास की हानि एक समस्या है जो घरों और उद्योगों के निर्माण के लिए प्राकृतिक क्षेत्रों के विनाश के कारण होती है।
  • पेड़ों की कटाई, जंगलों की कटाई, आग और प्रदूषण के कारण वनों की कटाई होती है।

 

How to Protect Environment

पर्यावरण की रक्षा करना इतना आसान नहीं है, इसमें बहुत सारी ऊर्जा, समय और प्रयास लगेगा। स्वच्छ और स्वस्थ वातावरण बनाए रखने के लिए सभी को आगे आना चाहिए और साथ मिलकर काम करना चाहिए। हम निम्नलिखित तरीकों से पर्यावरण की रक्षा कर सकते हैं:

  • लोगों को प्रदूषण नियंत्रण पर सख्त कानूनों का पालन करना चाहिए।
  • प्लास्टिक जैसी पर्यावरणीय रूप से अपरिहार्य सामग्रियों के उपयोग को नहीं अपनाना चाहिए।
  • पुराने और बेकार उत्पादों के पुनर्चक्रण को अपनाना चाहिए।
  • पानी की बर्बादी कम करके पानी बचाएं।
  • वनों की कटाई के लिए एक शून्य-सहिष्णुता नीति लागू की जानी चाहिए।
  • जानवरों के शिकार पर रोक लगाई जानी चाहिए।
  • कार्बन डाइऑक्साइड और अन्य ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को नियंत्रित किया जाना चाहिए।
  • ऊर्जा संरक्षण और बिजली का कम उपयोग।
  • ऐसी तकनीकें जो हमारे पर्यावरण के लिए हानिकारक नहीं हैं।

 

Environment Essay Conclusion

पर्यावरण प्रदूषण हमारे दैनिक जीवन पर नकारात्मक प्रभाव डाल रहा है। उन्नत प्रौद्योगिकियों के आविष्कार मानव जीवन में सहजता प्रदान कर रहे हैं। लेकिन, ये आविष्कार हमारे पर्यावरण के अस्तित्व के लिए खतरा पैदा करते हैं। पर्यावरण के प्रदूषण से कई स्वास्थ्य संबंधी बीमारियाँ होती हैं, जो मनुष्य को जीवन भर झेलनी पड़ सकती हैं। पृथ्वी पर जीवन का अस्तित्व बनाने के लिए इस पर गंभीरता से विचार किया जाना चाहिए। यह दुनिया भर में एक समस्या है जिसे हर किसी के नॉनस्टॉप प्रयासों से हल किया जा सकता है।

पर्यावरण सुरक्षा अभियान में सभी को आगे आना चाहिए और भाग लेना चाहिए। विश्व पर्यावरण दिवस एक पर्यावरण सुरक्षा कार्यक्रम है जिसे दुनिया भर में हर साल 5 जून को मनाया जाता है। लोग और कई संगठन हमारे पर्यावरण को नष्ट करने वाले कारकों के बारे में जानने के लिए दिन मनाते हैं। इस दिवस को मनाने के पीछे का मकसद दुनिया भर के लोगों में जागरूकता फैलाना है। पर्यावरण की रक्षा के लिए उन्हें सकारात्मक कदम उठाने चाहिए। तो, पर्यावरण को बचाना हर इंसान की जिम्मेदारी है। ताकि आने वाली पीढ़ी प्रकृति के उपहारों का आनंद ले सके।

FAQ’s on Environment Essay

Question 1.
What is the true meaning of the environment?

Answer:
The ecosystem that includes all the plants, animals, birds, reptiles, insects, water bodies, fishes, human beings, trees, microorganisms, and many more are part of the environment. Besides, all these constitute the environment.

Question 2.
What are the three types of the environment?

Answer:
The three types of environment include the physical, social, and cultural environment. Besides, various scientists have defined different types and numbers of environments.

MATH EBOOK FREE DOWNLOAD हिंदी और इंग्लिश में

 

ECONOMICS EBOOK FREE DOWNLOAD बुक हिंदी और इंग्लिश में

  • NCERT Class 12 Economics Book Hindi & English Download
  • Shankar Ganesh Indian Economy 3rd Clear Printable Version
  • Indian History and Economy Explorer For Competitive Exams in Hindi PDF
  • Dhyeya IAS Indian Economics PDF
  • Arihant Magbook Indian Economy in Hindi PDF Download
  • Economics Hindi Book 2018-19 Dr. V.C. Sinha, Dr. Pushpa Sinha Download

Latest update पाने के लिए हमारे  Telegram Group को like करे. अगर आपको Environment Essay Download ||Environment Essay Pdf || Environment Essay Book || Environment Essay free || Environment Essay 2021 || Environment Essay पसंद आये तो इसे अपनी प्रियजनों को शेयर करे. और हमें comment box में comment करे

About the author

Student PDF

Leave a Comment